Welcome

Welcome to the Blog.some talks and thought which i cant tell anyone.i think this is the best plateform to share them.

Advertisements

Recent Posts

तेरी बेवफाई के अंगारो मे लिपटी रही है रुह मेरी , मै ईस तरह आग ना होता जो हो जाती तु मेरी !! By. Zakir khan

युं तो भुले लोग कई हमे पहले भी बहोत से पर तुम जितना हमे कोई याद नहीं आया ।

More Posts